0

Top 25+ Happy New Year Poems In Hindi

Happy New Year Poems In Hindi : Hello Friends, After This Collection Happy New Year Poem In English . Today I Will Share Our Best Collection Of Happy New Year Poems In Hindi. I Hope You Like This Post.Don’t Forget To Share This Post In Your Family Member And Friends in.I Hope You Enjoy This Latest Collection. Everyone Know New Year Is Best Movement Of The New Year Celebration in.Happy New Year Poems In Hindi.Happy New Year Message And Happy New Year Wishes.

Happy New Year Poem In Hindi

Happy New Year Poems In Hindi

 

नया वर्ष
संगीत की बहती नदी हो
गेहूँ की बाली दूध से भरी हो
अमरूद की टहनी फूलों से लदी हो
खेलते हुए बच्चों की किलकारी हो नया वर्ष

नया वर्ष
सुबह का उगता सूरज हो
हर्षोल्लास में चहकता पाखी
नन्हें बच्चों की पाठशाला हो
निराला-नागार्जुन की कविता

नया वर्ष
चकनाचूर होता हिमखण्ड हो
धरती पर जीवन अनन्त हो
रक्तस्नात भीषण दिनों के बाद
हर कोंपल, हर कली पर छाया वसन्त हो


@@@@@ Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

नए वर्ष में नई पहल हो।
कठिन ज़िंदगी और सरल हो।।
अनसुलझी जो रही पहेली।
अब शायद उसका भी हल हो।।

जो चलता है वक्त देखकर।
आगे जाकर वही सफल हो।।
नए वर्ष का उगता सूरज।
सबके लिए सुनहरा पल हो।।

समय हमारा साथ सदा दे।
कुछ ऐसी आगे हलचल हो।।
सुख के चौक पुरें हर द्वारे।
सुखमय आँगन का हर पल हो।।

नए वर्ष की शुभकामनाएँ |


@@@@@ Happy New Year Poem For Family @@@@@

आओ, नूतन वर्ष मना लें!

गृह-विहीन बन वन-प्रयास का
तप्त आँसुओं, तप्त श्वास का,
एक और युग बीत रहा है, आओ इस पर हर्ष मना लें!
आओ, नूतन वर्ष मना लें!

उठो, मिटा दें आशाओं को,
दबी छिपी अभिलाषाओं को,
आओ, निर्ममता से उर में यह अंतिम संघर्ष मना लें!
आओ, नूतन वर्ष मना लें!

हुई बहुत दिन खेल मिचौनी,
बात यही थी निश्चित होनी,
आओ, सदा दुखी रहने का जीवन में आदर्श बना लें!
आओ, नूतन वर्ष मना लें!

 


@@@@@ Happy New Year Poem @@@@@

नया साल क्या लाएगा.. नया साल भी सताएगा

ख्वाब दिखायेगा, कदम बहकायेगा
ठोकरे देकर संभालना सिखाएगा

याद दिलाएगा, हमे रुलाएगा
वास्ते देकर फिर चुप कराएगा

आरज़ू जगायेगा, नींदें उड़ाएगा
दिलासे देकर फिर सुलाएगा

यादें महकाएगा, गीत लिखवाएगा
आंसू छलकाकर अकेला छोड़ जायेगा

उम्मीदे लाएगा, हसरतें जगायेगा
जीना सिखाएगा, यादें दे जायेगा

नया साल क्या लाएगा… नया साल भी गुजर जायेगा


@@@@@ Happy New Year Poem 2019 @@@@@

गए साल की
ठिठकी ठिठकी ठिठुरन
नए साल के
नए सूर्य ने तोड़ी।

देश-काल पर,
धूप-चढ़ गई,
हवा गरम हो फैली,
पौरुष के पेड़ों के पत्ते
चेतन चमके।

दर्पण-देही
दसों दिशाएँ
रंग-रूप की
दुनिया बिम्बित करतीं,
मानव-मन में
ज्योति-तरंगे उठतीं।


@@@@@ Happy New Year Poem Friends @@@@@

Naya saal, naya din, nayi tamanna jeevan ki…….
Chalo mil beth tye kare khusiya apne aangan ki….

Sabko mubarak ho naya saal nayi kiran jeevan ki….
Chalo banaye zindagi ko josh umang se bhare palo ki

Sabke pure ho sapne, uchayiyaa mile jiveen ki……
Chalo mil beth baant le sukh dukh apne kismat ki…

Wish You Happy & Prosperous New Year 2019


@@@@@ Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा,
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा,

देकर नवल प्रभात विश्व को,
हरो त्रस्त जगत का अंधियारा

हर मन को दो तुम नई आशा
बोलें लोग प्रेम की भाषा,

समझें जीवन की सच्चाई,
पाटें सब कटुता की खाई,

जन-जन में सद्भाव जगे,
औ घर-घर में फैले उजियारा !


@@@@@ Romantic New Year Poems @@@@@

जेठ की धूप में तपी हुई
आषाढ़ की फुहारों में भीगकर
कार्तिक और अगहन के फूलों को पार करती हुई
यह घूमती हुई पृथ्‍वी
आज सामने आ गयी है
नये साल की देहरी के

तीन सौ पैंसठ जंगलों
तीन सौ पैंसठ नदियों
तीन सौ पैंसठ दुर्गम घाटियों को पार करने के बाद
आज यह घूमती हुई पृथ्‍वी

यह पृथ्‍वी
टहनी से टपका एक ताजा पका फल
लुढ़ककर आ गया है साबुत
अभी-अभी लिपे हुए आंगन में
प्रथम दिवस की चौखट के सामने
तीन सौ पैंसठ पत्‍थरों से बचकर

न जाने कितने लोगों का भय रेंग रहा है इस पर
न जाने कितने नगरों-गावों का रक्‍त
बह रहा है अभी भी
न जाने कितनी चीखों से
दहल गयी है यह पृथ्‍वी

ऐसे मे कितना सुखद है यह देखना
कि तीन सौ पैंसठ घावों से भरी यह पृथ्‍वी
आज जब सामने आयी है
नये साल के प्रथम दिवस की चौखट के
इसके माथे पर चमक रहा है नया सूर्य

इसकी नदियों का जल
हमारे जनों के हाथों में
अर्ध्‍य के लिए उठा है सूर्य की ओर

और ठीक वहीं
जहां पिछले अंधेरों को पार करने के बाद
ठिठकी खड़ी है यह पृथ्‍वी
दिन की टहनियों पर
फूले हैं गुड़हल के फूल.


@@@@@ Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

चमक रहे हैं
हमारे स्वागत में
दिन के नए पन्ने

इन्हीं में लिखनी है हमें
अपनी कहानियाँ
देना है अपना बयान

कि इन्हें बचना है
आग की लपटों से
ख़ून के धब्बों से


@@@@@ Latest Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

जिन्दगी का एक ओर वर्ष कम हो चला,
कुछ पुरानी यादें पीछे छोड़ चला..

कुछ ख्वाईशैं दिल मे रह जाती हैं..
कुछ बिन मांगे मिल जाती हैं ..

कुछ छोड़ कर चले गये..
कुछ नये जुड़ेंगे इस सफर मे ..

कुछ मुझसे बहुत खफा हैं..
कुछ मुझसे बहुत खुश हैं..

कुछ मुझे मिल के भूल गये..
कुछ मुझे आज भी याद करते हैं..

कुछ शायद अनजान हैं..
कुछ बहुत परेशान हैं..

कुछ को मेरा इंतजार हैं ..
कुछ का मुझे इंतजार है..

कुछ सही है
कुछ गलत भी है.

कोई गलती तो माफ कीजिये और
कुछ अच्छा लगे तो याद कीजिये।

Happy Last Day of The Year 2019


@@@@@ Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

चलो,
पूरी रात प्रतीक्षा के बाद
फिर एक नई सुबह होगी
होगी न,
नई सुबह?
जब आदमियत नंगी नहीं होगी
नहीं सजेंगीं हथियारों की मंडिया
नहीं खोदी जायेगीं नई कब्रें
नहीं जलेंगीं नई चिताएँ
आदिम सोच, आदिम विचारों से
मिलेगी निजात
होगी न,
नई सुबह?
सब कुछ भूल कर
हम खड़े हैं
हथेलियों में सजाये
फूलों का बगीचा,
पूरी रात जाग कर
फिर एक नई सुबह के लिए
होगी न
नई सुबह?


@@@@@ Happy New Year Poem In Hindi @@@@@

कितना अजीब है यह कार्ड कि बोलता नहीं-‘सब खैरियत है’
न केवल पेड़-पौधे
न केवल अरब सागर
गायब है धरती, अंतरिक्ष गायब
भाग रहे हैं तमाम पखेरू नये ठिकानों की फिक्र में
कोई ऐसी जगह नहीं
कि चिलकती हो माकूल जगह
सिर्फ गर्द है, धुआँ है, आग है और
और असंख्य छायाएँ छोड़तीं ठिकाने
वर्दियों से अटा कितना अजीब है यह कार्ड
कि बोलता नहीं-‘सब खैरियत है’


Read Also – Happy New Year Whatsapp DP

Read Also –  Happy New Year Shayari

Read Also –  Happy New Year Status

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *